20 साल का लड़का कूद गया कुआं में ,जब होश में आया तो बन गया था लड़की

Biggest News, BIHAR, Breaking News, DELHI

न्यूज़ डेस्क : एक 20 साल के लड़के ने एक नाटकीय घटनाक्रम के बाद खुद के अचानक से लड़की बनने का दावा किया है। हालांकि वह लड़का है या लड़की इसकी मेडिकल तौर पर अभी पुष्टि नहीं हुई है। ऐसा क्यों हुआ इसका खुलासा भी मेडिकल जांच के बाद ही हुआ। लेकिन इस दौरान गांव की कुछ महिलाओं का दावा है कि उन्होंने पड़ताल की है। उसके जननांग व अन्य अंग महिलाओं जैसे हैं। इस घटना के बाद उसके घर के बाहर पूजा-अर्चना और जागरण का दौर शुरू हो चुका है। अचानक लड़के से लड़की बनने वाला युवक भीखाराम अब खुद को साध्वी माया बता रहा है। भीखाराम बैंगलुरू में काम करता है। वह 16 सितंबर को ही गांव आया था। इसी दिन वह अपने परिवार और दोस्तों को जल समाधि लेने का मैसेज छोड़कर चला गया। भीखाराम का दावा है कि वह गांव के ही कुंए में कूद गया था। होश आया तो वह कुंए से बाहर पड़ा था और वह पूरी तरह से लड़की बन चुका था।

संभव है भीखाराम के शरीर में हारमोन्स के असंतुलन के कारण शारीरिक परिवर्तन आए हों, शर्म व हिचक के चलते उसने परिजनों को नहीं बताया हो, अंदेशा इस बात का भी है कि बैंगलुरू रहते हुए उसने लिंग परिवर्तन कराया हो, हालांकि इस बात से वह खुद और उसका दुकान मालिक इंकार कर रहे हैं। वहीं मेडिकल कॉलेज के डॉ. प्रवीण चौधरी व डॉ. सुनीता विश्नोई ने बताया कि यह हार्मोनल असंतुलन के कारण हो सकता है। यदि ऐसा है तो उसमें शुरू से ही महिलाओं के लक्षण थे और क्लाईटोरियस के बढ़ने की वजह से सामने नहीं आए। सोनोग्राफी या फिर हार्मोंस की जांच से पता चल सकता है कि बदलाव कैसे हुआ।

यह मामला जितना नाटकीय है उतना ही इससे अंधविश्वास भी पनप गया है। वहीं मेडिकल साइंस के लिए इसका जवाब जानना जरूरी है। संभावना है कि बुधवार को मेडिकल कॉलेज से जुड़े बांगड़ अस्पताल के डॉक्टरों की टीम उसकी जांच करे।

भीखाराम ने 11वीं तक पढ़ाई की। इसके बाद ओमाराम के पास बैंगलुरू चला गया। करीब 5 साल से वहां था। ओमाराम का दावा है कि वह सामान्य लड़कों की तरह की व्यवहार करता था। इस दौरान उसमें किसी भी तरह का कोई परिवर्तन नहीं दिखा।