51 साल के हवसी ने 6 सगी बहनों को बनाकर रखा था सेक्स का गुलाम ,माता-पिता भी देते थे साथ

Biggest News, Breaking News, DELHI, Jara Hatke, LIFESTYLE

नई दिल्ली: लोगों के बीच इंसानियत खत्म होती जा रही है। दरिंदगी उनपर हावी हो रही है। ऐसी ही दरिंदगी एक 51 साल के हवसी ने दिखाई, जिसने 6 सगी बहनों को सालों तक अपने हवस का शिकार बनाया। पेंसिल्वेनिया के इस घिनौने अपराध के सामने आने के बाद लोगों की रूह कांप गई। 51 साल के ली कैपलेन ने 6 सगी बहनों के साथ सालों से दरिंदगी कर रहा था।

8 से 18 साल की इन बहनों को उनसे न केवल अपने हवस का शिकार बनाया बल्कि उन्हें सेक्स स्लैव बनाकर अपने घर में कैद रखा। पिछले 8 सालों से ये 6 बहने कैपलेन के घर में कैद थी, जहां वो हर रात को उनके साथ दरिंदगी दिखाता। उनका रेप करता और उनका ब्रेन वॉश कर चुप रहने की धमकी देता। सबसे चौंकाने वाली बात तो ये थी कि लड़कियों के माता-पिता ने ही अपनी बच्चियों को कैपलेन के हवाले कर दिया है।

थोड़े से पैसे के बदले लड़की के मां-बाप ने अपनी बच्चियों को कैपलेन के हाथों बेच दिया। मामले का खुलासा उस वक्त हुआ जब सबसे बड़ी बहन, जिसकी उम्र अब 18 साल की हो चुकी है उसने पुलिस को इस बारे में जानकारी दी। लड़की 2 बच्चों की मां है, जिनके पिता कैपलेन है। लड़की ने पुलिस को इस पूरे कांड की जानकारी दी। अपने स्टेटमेंट में उसने बताया कि कैसे कैपलेन उनके साथ अश्लील हरकते करता था, उनका रेप करता था। लड़की ने बताया कि कैपलेन खुद को भगवान का दूत बताता था और उनसे कहता था कि उनके साथ ऐसा करने के लिए भगवान ने उसे भेजा है।


लड़की के इस खुलासे के बाद कैपलेन को गिरफ्तार कर लिया गया है। उस पर 17 अलग-अलग मामले दर्ज किए गए है। वहीं अपनी बच्चियों को बेचने के आरोप में लड़कियों के मां-बाप को भी गिरफ्तार किया गया है। सुनवाई के दौरान कैपलेन और लड़कियों के मां-बाप ने अपना जुर्म कबूल लिया है। पुलिस ने सभी लड़कियों को आजाद कर उन्हें सुरक्षित घर में रखा है। पुलिस को कैपलेन के घर से 11 लड़कियां मिली है। सभी लड़कियों को कैपलेन ने ब्लू रंग के कपड़ों में रखा था और किसी ने आज तक घर से बाहर कदम तक नहीं रखा। उन्हें घर से बाहर जाने की इजाजत नहीं थी। पुलिस के मुताबिक अर कैपलेन के खिलाफ सारे आरोप साबित हो जाते हैं तो उसे उम्र कैद से कोई नहीं बचा सकता है। वहीं लड़कियों के मां-बाप के खिलाफ बी मामला दर्ज तक लिया गया है। लोगों को कोर्ट के फैसले का इंतजार है।