CBSE ने फिर दिखाया 8 साल पुराना रंगरूप , 2 लाख फेल,10 ने की खुदकुशी

Biggest News, Breaking News, DELHI

नई दिल्ली : कल केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 10वीं परीक्षा के नतीजे जारी कर दिया लेकिन  इस बार रिजल्ट 8 साल पुराने पैटर्न से जारी हुए हैं, जिसमें परीक्षार्थियों के नंबर भी जारी किए गए हैं. जिसका फर्क परीक्षार्थियों की मानसिक स्थिति से लेकर नतीजों के पास प्रतिशत पर भी पड़ता दिख रहा है. रिजल्ट आने के कुछ ही घंटों बाद 3 विद्यार्थियों ने रिजल्ट अच्छा ना रहने की वजह से खुद को मौत के हवाले कर दिया. साथ ही इस बार 10वीं का रिजल्ट भी पिछले सालों से कम रहा है.

परीक्षार्थियों का रिजल्ट उम्मीद के अनुसार ना आने और पास प्रतिशत में कमी होने के पीछे परीक्षा पैटर्न में बदलाव भी एक अहम वजह हो सकती है. बता दें कि बोर्ड ने 8 साल बाद फिर से पुराना सिस्टम लागू किया है, जिसके अनुसार परीक्षार्थियों के नंबर और मार्क्स प्रतिशत की जानकारी दी जाती है, जबकि 8 साल से सीबीएसई 10वीं कक्षा में सीजीपीए के माध्यम से नतीजे जारी किए जाते थे.

स्टूडेंट्स का भी मानना है कि पैटर्न में हुए बदलाव से तनाव ज्यादा रहता है और इससे मार्क्स पता चलने का डर बना रहता है. वहीं सीजीपीए सिस्टम में प्रतिस्पर्धा कम रहती है और अब छात्रों के बीच कंपीटिशन हर एक मार्क्स के आधार पर तय होता है. हाल ही में 10वीं की परीक्षा में भाग लेने वाले डीपीएस स्टूडेंट अभिनव चतुर्वेदी का कहना है, ‘मार्क्स पैटर्न में हुआ बदलाव आपसी कंपीटिशन को जन्म देता है और टॉपर्स के नाम जारी होने से भी बच्चे खुद को कम आंकने लगते हैं, जो तनाव का कारण है.’ अभिनव ने बताया,’ पहले जब सीजीपीए आधारित रिजल्ट आता था तो फ्रैंड सर्किल में उतना कंपीटिशन नहीं होता था, लेकिन अब एक कक्षा में ही नंबर को लेकर टेंशन बढ़ रही है.’

वहीं भूपेश गुप्ता का कहना है, ‘जब मेरे बड़े भाई ने सीजीपीए पैटर्न से 10वीं परीक्षा पास की थी तो उनको रिजल्ट की इतनी टेंशन नहीं थी, लेकिन जब मैंने इस पैटर्न से परीक्षा दी है तो मेरे साथ पूरा परिवार टेंशन में था. साथ ही बच्चों पर सामाजिक दबाव भी बना रहता है कि उसके ज्यादा नंबर आए हैं या उसके मुझसे कम आए हैं.’ भूपेश के अनुसार सीजीपीए पैटर्न ठीक था, क्योंकि उसमें कम अंक हासिल करने वाले उम्मीदवार ज्यादा परेशान नहीं रहते थे.


 

Leave a Reply