बिहार में बदल गया है शराबबंदी क़ानून ,जानिए नया क़ानून क्या है

Biggest News, BIHAR, Breaking News, Patna, Politics

पटना : शराब बंदी की ओर कदम बढ़ाते हुए नीतीश सरकार ने बिहार मद्यनिषेध व उत्पाद (संशोधन) विधेयक 2018 के प्रारूप को मंजूरी दी है. इसके तहत शराबबंदी कानून में थोड़ी नरमी के साथ सख्ती भी की गई है.

नए नियमों के अनुसार, अब यदि कोई पहली बार शराब पीते पकड़ा जाता है तो उसे 50 हजार रुपये का जुर्माना या तीन महीने की सजा हो सकती है. अभी सजा 5 से 10 साल की है.

इसके अलावा मिलावटी या अवैध शराब बेचने पर अब 10 साल की जगह उम्रकैद की सजा होगी. यही नहीं, कानून में अगर किसी होटल या प्रतिष्ठान में कोई शराब पीते पकड़ा गया, तो पूरे परिसर की बजाए उसी कमरे को सील किया जाएगा, जिसमें शराब मिलेगी.

पहली बार पीते पकड़े जाने के बाद अगर कोई इसको दोहराता है तो उसे 1 से 5 साल की सजा और 1 से 5 लाख तक अर्थदंड लगाया जाएगा. अभी शराब के नशे में पकड़े जाने पर 5 साल तक की सजा और एक लाख तक के अर्थदंड का प्रावधान है.

वहीं, नशे की हालत में हुड़दंग करने या घर-दफ्तर में शराब पीने की अनुमति देने पर 10 साल की सजा और उम्रकैद का प्रावधान है.|

हालांकि, नीतीश सरकार ने कुछ नरमी भी बरती है. शराब पीते पहली बार पकड़े जाने पर अब तक गैर जमानती सजा का प्रावधान था, लेकिन संशोधित प्रावधान में इसे जमानती बना दिया गया है.

इसके अलावा सामूहिक जुर्माना भी ख़त्म कर दिया गया है. पहले के कानून में किसी गांव, मोहल्ले पर सामूहिक जुर्माना लगता था. जिसे पुलिस की पुष्टि के बाद डीएम द्वारा लगाया जाता था.


Leave a Reply