दरभंगा मेडिकल कॉलेज की यह छात्राएं करती थी गंदा काम, प्रिंसिपल ने जाना तो उड़े होश

BIHAR, Breaking News, Darbhanga, EDUCATION

एक जूनियर से रैगिंग मामले में दोषी दरभंगा मेडिकल कॉलेज की 54 छात्रओं को पचास-पचास हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया. इन छात्रओं पर शुक्रवार को प्राचार्य डॉ. आरके सिन्हा ने 50-50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया. राशि 25 नवंबर तक कार्यालय में जमा कराने को कहा गया है. नहीं देने पर वर्ग संचालन से वंचित कर दिया जाएगा. इनके अभिवावकों को भी तलब करने का निर्णय लिया गया है. एमसीआइ, नई दिल्ली के आदेश पर गठित जांच टीम की रिपोर्ट आने के बाद यह हुई.
ओल्ड छात्रवास की एक छात्र ने रोज की रै¨गग से तंग आकर गत 11 नवंबर को एमसीआइ से शिकायत की. बताया कि सीनियर छात्रएं हरेक रात रैगिंग करती हैं. गालियां देती हैं. बेवजह मारती हैं. जबरन किसी काम के लिए दबाव डालती हैं. इससे वह तनाव में है. 16 नवंबर को एमसीआइ ने प्राचार्य को सख्त का आदेश दिया. कहा कि आरोपित छात्राओं को चिह्नित कर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के आधार पर प्राथमिकी दर्ज कराई जाए.

उसी दिन प्राचार्य ने सात सदस्य कमेटी बनाई. एमबीबीएस के पहले और तीसरे सेमेस्टर की सभी छात्राओं को 17 नवंबर को प्राचार्य ने अपने चैंबर में तलब किया. शुक्रवार को दोनों सेमेस्टर की छात्राएं कमेटी और प्राचार्य के समक्ष दोबारा पेश हुईं. कमेटी के सामने छात्रओं ने रैगिंग की बात को सिरे से खारिज कर दिया.
तब छात्राओं से कहा गया कि अगर यहां शिकायत करने में परेशानी हो तो गुप्त रूप से जानकारी दें. इस पर छात्राओं ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. इसके बाद प्राचार्य ने दोनों सेमेस्टर की छात्राओं के विरुद्ध दंडात्मक कार्रवाई  आदेश दिया. प्राचार्य ने कहा कि रैगिंग करनेवाली छात्र के नाम का खुलासा नहीं हुआ तो और भी सख्त होगी.

Leave a Reply