लड़की की माँ ने मेजर गोगोई का खोल दिया है पोल ,बोली वो रात में करते थे ये काम

Biggest News, Breaking News

श्रीनगर : मेजर गोगोई एक कश्मीरी लड़की के साथ होटल में मिले थे. उस लड़की की मां का नाम है नसीमा. नसीमा के मुताबिक, मेजर गोगोई अक्सर रात के समय उसके घर में आया करते थे. उनके साथ उनका लोकल ड्राइवर समीर मल्ला भी हुआ करता था. मेजर गोगोई जब भी आते, रात को ही आते. ऐसा नहीं कि इजाजत लेकर घर में घुसते हों. वो बस घुस आया करते थे. लड़की की मां का कहना है कि मेजर गोगोई को अपने घर में देखकर वो डर जाया करती थीं

ये मार्च 2018 की बात होगी. एक रात मेजर गोगोई जबरन हमारे घर में घुस आए. मैं उन्हें देखकर डर गई. बेहोश हो गई. वो हमारा हाल-चाल पूछ रहे थे. उनके साथ एक और आदमी था. दोनों ने सादे कपड़े पहने हुए थे. खोज-खबर लेकर वो दोनों चले गए. बाद में मुझे मालूम चला कि मेजर गोगोई के साथ जो आदमी था, वो लोकीपोरा पोश्कर का रहने वाला है. उसका नाम समीर मल्ला है. उसके बाद मेजर गोगोई और समीर, दोनों अक्सर देर रात हमारे घर आते. समीर मेरी बेटी के साथ बातें करता था. मुझे शक तो हुआ था. मगर मुझे नहीं मालूम था कि यूं सेना के मेजर के साथ होटल में उससे पूछताछ की जाएगी.

23 मई, 2018. जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर. यहां एक होटल है- द ग्रैंड ममता. मेजर लीतुल गोगोई सेना के चर्चित अधिकारी हैं. वही, जिन्होंने फारूक अहमद दार नाम के एक कश्मीरी को सेना की जीप के बोनट पर बांधकर बडगाम में घुमाया था. जो मालूम है, वो ये कि मेजर गोगोई ने इस होटल में एक कमरा बुक कराया. ऑनलाइन. कहा जा रहा है कि एक कश्मीरी लड़की को साथ लेकर वो उस कमरे में चेक-इन करने आए. उनका ड्राइवर समीर भी साथ था. पुलिस सूत्रों का कहना है कि समीर भी सेना में है. लड़की चूंकि लोकल थी. सो होटल स्टाफ ने उसे रूम में नहीं जाने दिया. झगड़ा हुआ, तो पुलिस बुलाई गई. पुलिस ने मेजर गोगोई और उस लड़की, दोनों को हिरासत में लिया. पूछताछ के बाद उन्हें जाने दिया गया. पहले खबर आई कि लड़की नाबालिग है. फिर पुलिस ने कहा कि वो बालिग है. केस की तफ्तीश का जिम्मा श्रीनगर नॉर्थ ज़ोन के SP सज्जाद शाह को दिया गया है.

मां कह रही है बेटी नाबालिग है, पुलिस कह रही है बालिग है
नसीमा कश्मीर के बडगाम जिले की रहने वाली हैं. यहां एक गांव है. चेक-ए-कवूसा. वहीं की हैं. 2014 में झेलम उफन पड़ी थी. बाढ़ में नसीमा का भी घर बह गया. इसके बाद से वो अपने परिवार के साथ एक टिन की छपरी वाले छोटे से घर में गुजर-बसर करती हैं. घर में नसीमा हैं. उनके पति हैं. और चार बच्चे हैं. जिस लड़की के साथ ये घटना जुड़ी है, वो सबसे बड़ी औलाद है उनकी. 23 मई को जब ये होटल वाली बात खुली, तब से अड़ोस-पड़ोस के सैकड़ों लोग नसीमा के घर आ रहे हैं. क्या हुआ, कैसे हुआ, सच क्या है, ये सब पूछने के लिए. नसीमा का कहना है कि लोगों के सवालों की वजह से उन्होंने अपनी चुप्पी तोड़ी है. उन्होंने आगे बताया-मेरी बड़ी बेटी बस 17 साल की है. बाकी तीनों बच्चे छोटे हैं. समीर ही था, जो मेजर को हमारे घर में लेकर आया. वो मेरी बेटी को बहलाने-फुसलाने लगा. बुधवार सुबह (घटना वाले दिन) मेरी बेटी ने मुझसे कहा कि वो जम्मू-कश्मीर बैंक की नरबल ब्रांच पर जा रही है. कि उसे कोई काम है वहां. बाद में हमारे यहां के सरपंच के पास पुलिस का फोन आया. उन्होंने बताया कि मेरी बेटी को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है.

Leave a Reply