4 साल की बेटी की क्रूरता से हत्या : पिता ने रो -रोकर कहा मैंने मार दिया अपने 4 साल की बेटी को

Biggest News, Breaking News

इंदौर  : इंदौर में चार साल की बच्ची से दुष्कर्म और हत्या के बाद से माता-पिता का हाल बेहाल है। शनिवार सुबह जैसे ही पिता ने बेटी का शव देखा, वे बिलख पड़े। गले में बंधे काले धागे से उन्होंने अपनी लाड़ली को पहचाना। वे बोले तबीयत खराब होने पर भी उन्होंने कभी बेटी को सूई तक नहीं लगने दी और दरिंदे ने मेरी फूल सी बेटी को पत्थरों से कुचल डाला।

मां बोेली- दरिंदे को घर में रखा था, उसने मेरी बेटी छीन ली
बेटी की मौत से मां भी बदहवास थी। पोस्टमॉर्टम रूम के बाहर पति जैसे ही सामने आया तो पत्नी ने उसे धक्का दे दिया और बोली तुमने ही दरिंदे को घर में रखा था। उसने मेरी बेटी छीन ली। तुम्हारे कारण वह दूर चली गई। पिता बार-बार खुद को बेटी की मौत का जिम्मेदार बताते हुए सिर पटकते रहे। वे बार-बार मोबाइल में बेटी का फोटो देखकर सीने से लगाते रहे। यह दृश्य देख अस्पताल में मौजूद सभी की आंखें नम हो गईं।

 तीन दिन पहले ढाई साल की मासूम से ज्यादती और अब साढ़े चार साल की बच्ची से हैवानियत

थाने के सामने महज 100 कदम दूर नदी किनारे बोगदे में शव इतनी बुरी हालत में था कि पुलिस को उसे कपड़े में लपेटकर ले जाना पड़ा।

पिता की डांट का बदला बच्ची को दर्दनाक मौत देकर
हनी छह महीने से बच्ची के घर रह रहा था। शराब पीने की बात पर गुरुवार सुबह 7 बजे बच्ची के पिता ने हनी को फटकारा और सुबह 10 बजे उसे पलासिया में रहने वाली उसकी बहन ज्योति के घर छोड़ आया। आते समय बच्ची के पिता ने हनी को फिर फटकार लगाई कि आज के बाद कभी घर मत दिखना। गुरुवार शाम 5 बजे घर से करीब आधा किलोमीटर दूर सूर्यदेव नगर में पिता अपनी बेटी को ट्यूशन छोड़ने गए।

शाम 5 से 7 बजे तक ट्यूशन का टाइम था, लेकिन शाम साढ़े 5 बजे ही हनी बच्ची को लेने पहुंच गया। टीचर ने उससे कहा अभी तो आधा घंटा भी नहीं हुआ है। इस पर वह शाम साढ़े 6 बजे वापस बच्ची को लेने पहुंच गया। चूंकि हनी ही बच्ची को ट्यूशन से लाता और ले जाता था, इसलिए टीचर ने बच्ची को उसके साथ जाने दिया। शाम 6.55 बजे जब बच्ची के पिता उसे लेने पहुंचे, तब उन्हें पता चला हनी पहले ही उनकी बेटी को ले जा चुका है। आधा घंटा आसपास खोजने के बाद पिता द्वारकापुरी थाने पहुंचे और हनी द्वारा बेटी को अगवा कर लेने की बात कही।फिर बाद में छत विछत अवस्था में शव मिला |

सुबह 9 बजे शव एमवाय अस्पताल पहुंचा, गायनेकोलॉजिस्ट नहीं मिलने से छह घंटे देरी से हो सका पोस्टमॉर्टम



प्रशासन ने मेडिकल बोर्ड से बच्ची के शव की वीडियोग्राफी कर पोस्टमॉर्टम करवाया। डॉ. अनिल कुमार लांजीवाल के साथ डॉ. सुनील सोनी और डॉ. भार्गव ने पोस्टमॉर्टम किया। बच्ची का शव सुबह 9 बजे एमवायएच पहुंचा दिया था, लेकिन गायनेकोलॉजिस्ट नहीं मिलने से 6 घंटे देरी से पोस्टमॉर्टम हो सका। एमजी रोड पुलिस ने मर्ग कायम कर केस डायरी द्वारकापुरी थाने भेजी है। एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने बताया केस में अपहरण की धारा के साथ हनी अठवाल के खिलाफ पॉक्सो एक्ट व हत्या की भी धारा बढ़ाई है। आरोपी पर 30 हजार का इनाम घोषित कर चार टीमें उसकी तलाश में लगाई हैं। पूरे प्रदेश के थानों में उसके फोटो प्रसारित कर रेलवे व बस स्टेशनों पर चस्पा करवाए जा रहे हैं।