कोचिंग में छात्रा के साथ रंगरेलियां मना रहा था शिक्षक ,जब पत्नी ने देख लिया फिर क्या हुआ जानिए

Biggest News, BIHAR, Breaking News

गोपालगंज : गुरु शिष्या का रिश्ता सबसे  पवित्र होता है लेकिन जब इस रिश्ते पर ही सवाल उठने लगे तो लोगों का रिश्तों पर से भरोसा उठने लगता है |माता -पिता को बच्ची को कोचिंग भेजने में डर लगता है |

शहर के बंजारी मोड़ स्थित एक निजी कोचिंग संस्थान में एक छात्रा के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देखकर शिक्षक की पत्नी ने जमकर हंगामा मचाया और पीटते हुए पति को पुलिस के हवाले कर दिया। पत्नी को हंगामा करते देख वहां लोगों की भीड़ लग गई। इस बीच किसी ने इसकी सूचना पुलिस को दिया।

सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस आरोपित शिक्षक को हिरासत में लेकर थाना ले आई। हालांकि बाद में पति पत्नी में समझौता हो गया। किसी ने भी थाना में आवेदन नहीं दिया। पुलिस ने पीआर बांड भराने के बाद आरोपित शिक्षक को रिहा कर दिया।

बताया जाता है कि गोपालपुर थाना क्षेत्र के कोर्ट नरवहां गांव निवासी प्रमलेश कुमार प्रसाद शहर के बंजारी रोड़ स्थित वैभव होटल के पास कोचिंग सेंटर चलाते है। मंगलवार की सुबह एक छात्रा के साथ कोचिंग सेंटर में ये अकेले थे।

पत्नी का कहना था कि कोचिंग सेंटर के संचालक राजेश कुमार सुबह कोचिंग में एक्स्ट्रा क्लास लेने के बहाने आता था। इसी बीच किसी ने शिक्षक की पत्नी निशा देवी को छात्रा के साथ शिक्षक के आपत्तिजनक स्थिति में कोचिंग सेंटर में अकेले होने की सूचना दिया। जानकारी मिलने पर पत्नी कोचिंग सेंटर पहुंच गईं तथा हंगामा करने लगी।

इस दौरान वे जोर जोर से अपने कोचिंग संचालक पति पर चिल्ला रही थीं। शोर सुन वहां लोगों की भीड़ लग गई। इस दौरान किसी ने इसकी सूचना पुलिस को दिया। सूचना मिलने पर पुलिस आरोपित शिक्षक तथा छात्रा को पकड़ कर थाना ले गई। थाना ले जाने के बाद पुलिस ने छात्रा के परिजन को बुलाया। बुलाने पर छात्रा की मां थाना पहुंची।

उन्होंने कोचिंग संचालक की पत्नी को गलतफहमी होने की बात कह अपनी बेटी तथा शिक्षक को निर्दोष बताया। बाद में शिक्षक तथा उनकी पत्नी के बीच भी समझौता हो गया। किसी पक्ष ने इस मामले को लेकर थाना में आवेदन नहीं दिया।

इस संबंध में पूछे जाने पर नगर इंस्पेक्टर रवि कुमार ने बताया कि इस मामले में पति पत्नी तथा छात्रा के परिजन ने आवेदन देने से इनकार कर दिया है। जिसे देखते हुए पीआर बांड भराने के बाद आरोपित शिक्षक को छोड़ दिया गया।