खगड़िया के जज ने बनाया बेटी को बंधक : जानिए बिहार के खगड़िया जिला के जज ने बेटी को क्यों बनाया बंधक

Begusarai, Bhagalpur, Biggest News, BIHAR, Breaking News

खगड़िया : बिहार में एक जिला है खगड़िया. जस्टिस सुभाष चंद्र चौरसिया इस जिले के डिस्ट्रिक्ट जज हैं. एक वेबसाइट पर खबर छपी कि डिस्ट्रिक्ट जज सुभाष चंद्र चौरसिया ने अपनी 24 साल की बेटी यशस्विनी को अपने घर में बंधक बना रखा है.

जानिए क्यों बनाया है बंधक 

दरअसल यशस्विनी पटना के चाणक्या नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी से लॉ ग्रेजुएट हैं. पढ़ाई के दौरान 2012 में उसे सिद्धार्थ बंसल नाम के एक वकील से प्यार हो गया, जो दिल्ली का रहने वाला है. जज पिता को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने खगड़िया में अपने सरकारी घर में अपनी ही बेटी को बंधक बना लिया.

इसके बाद पटना हाई कोर्ट ने पटना के एसएसपी मनु महाराज को आदेश दिया कि वो 26 जून को पटना के चीफ जस्टिस के चैंबर में यशस्विनी को पेश करें. कोर्ट ने कहा कि एसएसपी अपने साथ दो महिला पुलिसकर्मियों को लेकर खगड़िया जाएं और लड़की को अपने साथ लेकर आएं. इसके साथ ही कोर्ट ने वकील अनुकृति जयपुरियार को एमिकस क्यूरी भी नियुक्त कर दिया.

कोर्ट के फैसले को देखते हुए एसएसपी मनुमहाराज खगड़िया पहुंचे और वहां जज सुभाष चंद्र चौरसिया के घर से उनकी बेटी यशस्विनी को लेकर 26 जून की दोपहर में पटना हाई कोर्ट पहुंचे. वहां यशस्विनी ने कोर्ट के सामने कहा कि वो बालिग है और उसकी जन्मतिथि 28 सितंबर 1993 है. यशस्विनी ने कहा कि वो कोर्ट में ही सिद्धार्थ बंसल से शादी करने के लिए तैयार है. इसके बाद कोर्ट ने पुलिस को कहा कि वो यशस्विनी को लॉ यूनिवर्सिटी के गेस्ट हाउस में रखे और उसे पुलिस सुरक्षा दी जाए. कोर्ट ने यशस्विनी को किसी से भी मिलने की छूट भी दी है.

सिद्धार्थ बंसल के मुताबिक यशस्विनी को बंधक बनाए जाने के मामले में उन्होंने बिहार के डीजीपी केएस द्विवेदी से भी मुलाकात की थी और लड़की को जज पिता की कैद से छुड़ाने की गुहार लगाई थी. डीजीपी ने मामला खगड़िया एसपी मीनू कुमारी को सौंप दिया, लेकिन जज के दवाब में एसपी ने कोई कार्रवाई नहीं की. सिद्धार्थ के मुताबिक बंधक बनाए रखने के दौरान यशस्विनी को आंख में चोट लग गई थी, जिसे देखने के लिए खगड़िया की पुलिस अधिकारी मीनू कुमारी जज सुभाष चंद्र चौरसिया के घर पहुंची थी. वहां उन्होंने कोई कार्रवाई करने के बजाय उल्टे यशस्विनी को आंख पर बर्फ लगाने की सलाह दे डाली, जिससे काले निशान मिट जाएं. सिद्धार्थ के मुताबिक वो अपने एक सीनियर साथी के साथ जज सुभाष चंद्र चौरसिया के घर शादी का प्रस्ताव लेकर गए थे, लेकिन जाति अलग होने की वजह से सुभाष चंद्र चौरसिया ने शादी करने से मना कर दिया. रिपोर्ट्स में ये भी दावा किया गया है कि जज सुभाष चौरसिया ने सिद्धार्थ से कहा कि पहले तुम या तो सिविल सेवा की परीक्षा पास कर लो या फिर जज बन जाओ, तब हम यशस्विनी की शादी तुमसे करेंगे.



Leave a Reply